Posts

सफ़र जारी है और मन्ज़िल निकल गई

सफ़र जारी है और मन्ज़िल निकल  गई,
महोब्बत तो हो गई पर उमर निकल गई,

जाम भी खाली है और महफ़िल भी है उदास
मैखाने का क्या कसूर जब साकी की खबर नहीं

याद थी वो ग़ज़ल, अब तो वो भी बिसर गई,
होठो पर तो थी अभी अब जाने किधर गई

जहाँ जाने को पैर बढ़ जाते थे आपे आप
अब वो गली तॊ है, पर उसमे कोई घर नहीं

दुनिया में करता है कोई मुझ से भी महोब्बत,
मुझे क्या मालुम मुझे कोई खबर नहीं

दिल का दर्द

Image
ज़िन्दगी में दर्द और भी है कहते हो हर बात को तुम,
रोता है कोई आसमानों में कहते हो बरसातों को तुम |

दिल का दर्द छुपाना तो सीख लिया अब तुमने,
छुपाओगे कैसे अपनी आवाज़ की खराशो को तुम ||

बेबसी

Image
दिल की आग ये या, बेबसी है ये !
 ज़िन्दगी ज़िन्दगी नहीं, खुदख़ुशी है ये !!
क्यों करें कुछ ऐसा, की याद करे ज़माना !
न कुछ कर सके, तो क्या ज़िन्दगी है ये !!

AC ट्रेन के डब्बे में वो बात नहीं होती

Image
ट्रेन के AC डब्बे में वो बात नहीं होती ,
general डब्बे की सी वो घड घड की आहाट नहीं होती


फेरी वाले , चाय वाले आवाज़ लगते थे जैसे,
अब वो सारी आवाज नहीं नहीं होती,

हर स्टेशन पर लोकल स्वाद महकता था,
पर अब ऐसी कोई आहट नहीं होती,

अपने अपने में ही ख़ोए हुए लोग ,
आप कहा से है ऐसी कोई अब बात नहीं होती,

पहेले मुस्कान फिर बात और घर आने की बात नहीं होती
AC ट्रेन के डब्बे में वो बात नहीं होती ,

Timepass

Image
Timepass

drashaya,
Train ka slipper coatch,
Darwaze per 2 aader umra ke vyakti kade the,,
aur vo waha per ek chote baccha .. shyad aawara type ka tha.. agle kisi station per utarne ki jaldi me tha..

Addmi1 .. school jata hai..
ladka bahar jhankt e hue.. naa me sir hilata hai..

aadmi1.. fir bada ho kar kya banega
aadmi2... chori karega aur kya..

aadmi1.. ambani bhi ban sakta hai.. aise hi kahi kuch sangat baith jaaye to.. hai ki nahi..

ladka itna dhyan nahi de raha.. bahar dekhna jaari rakhta hai.. aage peeche.. shyad TT ke dar se

aadmi2. inke maa baap ki galti hai.. paida kar ke chood dete hai..
aadmi1 sahi baat hai.. inki galti nahi hai..

addmi1 .. kyo re maa baap mana nahi karte ..

kyoo..maa baap dhyaan nahi dete kya..

ladka.. maa baap nahi hai..

aadmi 1 .. matlab

maa chali gai kahi.. aur baap bhi pahale chala gaya fir mar gaya...

aadmi1.. fir kaha rahata hai..
ladka .. aise hi.. logo ke saath

Aadmi1 .. fir to bada ho kar laawaris ban sakta hai.. amtaab bacchan .. hai.. kyo re

dono aadmi …

सफ़र जारी है और मजिल बिसर गई,

सफ़र जारी है और मजिल बिसर गई,
महोब्बत तो हो गई पर दिलरुबा किधर गई,

जाम भी खाली है और महफ़िल भी है उदास
उस मैखाने का क्या कसूर जिसके साकी की खबर नहीं


याद थी वो ग़ज़ल, अब तो वो भी बिसर गई,
होठो पर तो थी अभी अब जाने किधर गई

जिस जगह जाने को पाँव बढ़ जाते थे अपने आप
अब ना वो गली है, और उसमे अब कोई घर नहीं

दुनिया में करता है कोई मुझ से भी महोब्बत,
मुझे क्या मालुम मुझे कोई खबर नहीं

(keval gazal hai dosto .. isko filhaal mere haal se naa jodhiyega..)

गाँधी का भारत और जिन्ना का पाकिस्तान

एक बार किसी ने गाँधी जी से पुछा.. आप आजाद भारत में कैसी शिक्षा प्रणाली चाहते है बापू, तो गाँधी जी बोले,,, की जब में किसी कक्षा में बच्चो से पूछु की अगर एक दुकान दार २५ पैसे में एक सेब खरीदता है और १ रूपए में बेचता है तो उसको कितना मुनाफा मिलेगा , और अगर सारे बच्चे जवाब दे की " जेल होगी" ऐसी नैतिक सिख्षा चाहता हु॥ किसी भी व्यापारी को नैतिकता के आधार पर ये हक नहीं है की वो २५ पैसे की चीज़ पर तिगुना लाभ कमाए।

आज कल जो जीना साहब की बहस हो रही है की वो महान नेता थे धर्मनिरपेक्ष थे और पाकिस्तान ने उनके सपनो को पूरा नहीं किया .. प्रश्न ये है की क्या हिंदुस्तान ने गाँधी के सपनो का भारत बनाया है ...? आज़ादी के पहले दिन जब पूरा देश उत्सव में डूबा था तब भी गाँधी जी यही कहते थी की उत्सवो से पहेले देश बनाओ। आज तक ये देश तथाकथित आज़ादी के उत्सव में डूबा है,, भ्रस्ताचार की आज़ादी, खून करबे की आज़ादी, फरेब और ज्हूठ की आज़ादी, प्रांतवाद की आज़ादी॥ पैर जो सपने एक आजाद देश के आ व्यकी ने देखे थे जिनको सब राष्ट्र पिता और बापू कहते है वो शयद ५०० के नोट की तस्वीर में बस कर रह गए है,, उस के ब…